Tuesday, June 15, 2021
Home संपादकीय National Sero Survey Did Not Take Place After January 8 In The...

National Sero Survey Did Not Take Place After January 8 In The Country – चिंताजनक: देश में आठ जनवरी के बाद नहीं हुआ राष्ट्रीय सीरो सर्वे

परीक्षित निर्भय, नई दिल्ली
Published by: Jeet Kumar
Updated Fri, 07 May 2021 06:33 AM IST

ख़बर सुनें

महामारी की स्थिति पता करने के लिए सीरो सर्वे एक अहम भूमिका निभाता है लेकिन संक्रमण की दूसरी लहर में भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर ) इस पर चर्चा तक नहीं कर रहा है। यह स्थिति तब है जब हाल ही में दिल्ली एम्स के निदेशक कह चुके हैं कि देश में एक बड़ी आबादी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ चुकी है। 

एक तरह से देश हर्ड इम्युनिटी की ओर बढ़ रहा है लेकिन वर्तमान स्थिति देखकर हर्ड इम्युनिटी भी बेअसर दिखाई दे रही है। ऐसे में तत्काल बड़े स्तर पर सीरो सर्वे की आवश्यकता है। 

इसे लेकर आईसीएमआर की ओर से भी कोई जानकारी नहीं दी गई लेकिन आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ . बलराम भार्गव दूसरी लहर आने से पहले ही संकेत दे चुके थे कि एक बड़ी आबादी को कोरोना संक्रमण का खतरा है।

सीरो सर्वे के जरिए ही उन्हें यह संकेत प्राप्त हुए थे। जानकारी के अनुसार आईसीएमआर ने अब तक देश में तीन बार सीरो सर्वे किया है। तीसरा सर्वे पिछले वर्ष दिसंबर और इस साल की आठ जनवरी तक किया था। 

इसके जरिए सरकार को साक्ष्य मिले थे कि 10 वर्ष या उससे अधिक आयु को 21 फीसदी से ज्यादा आबादी संक्रमण के दायरे में आ चुकी है । 700 जगहों पर किए इस सर्वे में 28589 लोगों के सैंपल लेकर जांच की गई थी। 

इस दौरान 21.4 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी पाए गए थे। नई दिल्ली स्थित महामारी विशेषज्ञ डॉ . दिव्येंदु मिश्रा का कहना है कि देश को तत्काल चौथे सीरो सर्वे की आवश्यकता है क्योंकि इस बार देश के ग्रामीण क्षेत्रों में भी महामारी पहुंच चुकी है।

विस्तार

महामारी की स्थिति पता करने के लिए सीरो सर्वे एक अहम भूमिका निभाता है लेकिन संक्रमण की दूसरी लहर में भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर ) इस पर चर्चा तक नहीं कर रहा है। यह स्थिति तब है जब हाल ही में दिल्ली एम्स के निदेशक कह चुके हैं कि देश में एक बड़ी आबादी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ चुकी है। 

एक तरह से देश हर्ड इम्युनिटी की ओर बढ़ रहा है लेकिन वर्तमान स्थिति देखकर हर्ड इम्युनिटी भी बेअसर दिखाई दे रही है। ऐसे में तत्काल बड़े स्तर पर सीरो सर्वे की आवश्यकता है। 

इसे लेकर आईसीएमआर की ओर से भी कोई जानकारी नहीं दी गई लेकिन आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ . बलराम भार्गव दूसरी लहर आने से पहले ही संकेत दे चुके थे कि एक बड़ी आबादी को कोरोना संक्रमण का खतरा है।

सीरो सर्वे के जरिए ही उन्हें यह संकेत प्राप्त हुए थे। जानकारी के अनुसार आईसीएमआर ने अब तक देश में तीन बार सीरो सर्वे किया है। तीसरा सर्वे पिछले वर्ष दिसंबर और इस साल की आठ जनवरी तक किया था। 

इसके जरिए सरकार को साक्ष्य मिले थे कि 10 वर्ष या उससे अधिक आयु को 21 फीसदी से ज्यादा आबादी संक्रमण के दायरे में आ चुकी है । 700 जगहों पर किए इस सर्वे में 28589 लोगों के सैंपल लेकर जांच की गई थी। 

इस दौरान 21.4 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी पाए गए थे। नई दिल्ली स्थित महामारी विशेषज्ञ डॉ . दिव्येंदु मिश्रा का कहना है कि देश को तत्काल चौथे सीरो सर्वे की आवश्यकता है क्योंकि इस बार देश के ग्रामीण क्षेत्रों में भी महामारी पहुंच चुकी है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

अपनी स्थानीय खबर प्रस्तुत करें

Most Popular

उन्नाव में एयरफोर्स के जवान की निर्मम हत्या, आंख में मारी गई गोली

Unnao News: उन्नाव के गंगा घाट कोतवाली के वसधना गांव में एयरफोर्स जवान प्रतीक सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई. 27 साल...

कैबिनेट फेरबदल के लिए कितनी जल्दी में हैं पीएम मोदी, इस बात से हो जाएगा अंदाजा – bhaskarhindi.com

कैबिनेट फेरबदल के लिए कितनी जल्दी में हैं पीएम मोदी, इस बात से हो जाएगा अंदाजा - bhaskarhindi.com Source link

In the Sopatia village of Ghatlinga settled in Patalkot of Tamia, about 17 Bharia families are fascinated by the facilities. | तामिया के पातालकोट...

Hindi NewsLocalMpChhindwaraIn The Sopatia Village Of Ghatlinga Settled In Patalkot Of Tamia, About 17 Bharia Families Are Fascinated By The Facilities.छिंदवाड़ा6 मिनट पहलेकॉपी लिंकझिरिया...

Recent Comments